Pad bhavarth (saransh)

पद्य-2 | पद भावार्थ (सारांश) – सूरदास | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

विवरण

Pad bhavarth (saransh)

आधारित पैटर्नबिहार बोर्ड, पटना
कक्षा12 वीं
संकायकला (I.A.), वाणिज्य (I.Com) & विज्ञान (I.Sc)
विषयहिन्दी (100 Marks)
किताबदिगंत भाग 2
प्रकारभावार्थ (सारांश)
अध्यायपद्य-2 | पद – सूरदास
कीमतनि: शुल्क
लिखने का माध्यमहिन्दी
उपलब्धNRB HINDI ऐप पर उपलब्ध
श्रेय (साभार)रीतिका
पद्य-2 | पद भावार्थ (सारांश) – सूरदास | कक्षा-12 वीं

पद का प्रथम खण्ड

Pad bhavarth (saransh)

जागिए, ब्रजराज कुँवर, कँवल-कुसुम फूले ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, जागिए, ब्रज के राजकुमार, श्री कृष्ण भोर हो गई है। कमल के फूल भी खिल गए हैं। Pad bhavarth (saransh)


कुमुद-वृंद संकुचित भए, भृंग लता भूले ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, कुमुद के फूलों ने अपनी पंखुड़ियों को संकुचित (समेट) कर लिया है और भौंरे लताओं में छिप गए हैं। 

Pad bhavarth (saransh)


तमचुर खग-रोर सुनहु, बोलत बनराई ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, मुर्गा और पक्षियों की कोलाहल यानि उनकी आवाज सुनाई दे रही है, और वन के पेड़-पौधे भी आपको आवाज दे रहे हैं, आपको बुला रहे हैं।


राँभति गो खरिकनि में, बछरा हित धाई ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, गौशाला में गाय भी आवाज दे रही हैं और बछड़े जो है दूध पिलाने के लिए उनकी ओर दौड़ रहे है। Pad bhavarth (saransh)


बिधु मलीन रवि प्रकास गावत नर नारी ।
सूर स्याम प्रात उठौ, अंबुज-कर-धारी ॥

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, चंद्रमा का प्रकाश हटने लगा है और सूर्य का प्रकाश चारों दिशाओं में फैलने लगा है। सभी नर-नारी के साथ सूरदास भी भजन गा रहे हैं। हे कृष्ण अब उठ जाइए अब तो कमल भी पूरी तरह खिल गया है। Pad bhavarth (saransh)


पद का दूसरा खण्ड

Pad bhavarth (saransh)

जेंवत स्याम नंद की कनियाँ ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, भगवान श्री कृष्ण नंद बाबा की गोद में बैठे हुए भोजन करते है।  Pad bhavarth (saransh)


कछुक खात, कछु धरनि गिरावत, छबि निरखति नंद-रनियाँ ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, वह कुछ खा रहे हैं और कुछ धरती पर गिरा रहे हैं माता यशोदा प्रेम पूर्वक उनके मुख को देख रही हैं। Pad bhavarth (saransh)


बरी, बरा बेसन, बहु भाँतिनि, व्यंजन बिविध, अगनियाँ ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, बेसन से बने बड़ी-बड़ा और भी बहुत से विभिन्न प्रकार के व्यंजन आंगन में रखा हुए हैं। Pad bhavarth (saransh)


डारत, खात, लेत अपनै कर, रुचि मानत दधि दोनियाँ ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, उनकी रूचि दोनी में रखे दही और माखन में अधिक है। वे अपने हाथों से उठा कर खाते हैं और कुछ छोड़ देते हैं। Pad bhavarth (saransh)


मिस्री, दधि, माखन मिस्रित करि, मुख नावत छबि धनियाँ ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, बालक श्री कृष्ण अपने हाथ से मिश्री मिला हुआ दही और माखन को अपने मुख में डालते हैं। उनकी यह छवि धन्य है। Pad bhavarth (saransh)


आपुन खात, नंद-मुख नावत, सो छबि कहत न बनियाँ ।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, बाल श्री कृष्ण स्वयं भी खा रहे हैं और नंद बाबा को भी खिला रहे हैं। इस दृश्य का वर्णन नहीं किया जा सकता, इस दृश्य में बालकृष्ण का निश्चल प्रेम और उनके पिता नंद बाबा का आनंद है। जिसका वर्णन शब्दों में नहीं है। Pad bhavarth (saransh)


जो रस नंद-जसोदा बिलसत, सो नहिं तिहूँ भुवनियाँ ।
भोजन करि नंद अचमन लीन्हौ, माँगत सूर जुठनियाँ ।।

व्याख्या

प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्यपुस्तक दिगंत भाग 2 के सूरदास के पद कविता से लिया गया है। यह सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। इस पंक्ति कवि कहते की, इस समय जो खुशी नंद बाबा और माता यशोदा को हो रही है वो खुशी तीनो लोक में कहीं भी नहीं है। भोजन कराने के बाद नंद बाबा कुल्ला करते हैं कवि सूरदास बालक श्री कृष्ण का जूठा मानते हैं जिससे पाकर वे स्वयं को धन्य समझते हैं। Pad bhavarth (saransh)


सारांश

व्याख्या

यह पद सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। कवि इस पहले पद खण्ड में माता यशोदा द्वारा सोये हुए बाल श्री कृष्ण को उठाए जाने का वर्णन है। माता यशोदा कृष्ण से कहती हैं, जागिए ब्रजराज कुँवर अब कमल के फूल खिल गए हैं। पक्षी तथा पेड़-पौधे आपको बुला रहे है। गाय आपको आवाज दे रही हैं और अपने बच्चे को दूध पिलाने के लिए दौर रही हैं। अंधेरा छठ रहा है और सूर्य का प्रकाश चारों ओर छा रहा है। 

दूसरे पद में कृष्ण के भोजन करने का वर्णन है। कवि कहते हैं बालक कृष्ण अपने पिता नंद बाबा के गोद मे बैठ भोजन कर रहे हैं, कुछ खा रहे हैं और कुछ धरा पर गिरा रहे हैं। उनके सामने अनेक व्यंजन रखे हैं लेकिन उनका मन दही और माखन खाने को है और वह अपने हाथों से माखन को अपने मुख में डालते हैं। इस समय जो खुशी नंद बाबा और माता यशोदा को हो रही है वो खुशी तीनो लोक में कहीं भी नहीं है। कवि श्री कृष्ण का झूठा मानते हैं, जिसे पाकर वह धन्य समझेंगे। Pad Bhavarth (Saransh)


Quick Link

Chapter Pdf
यह अभी उपलब्ध नहीं है लेकिन जल्द ही इसे publish किया जाएगा । बीच-बीच में वेबसाइट चेक करते रहें।
मुफ़्त
Online Test 
यह अभी उपलब्ध नहीं है लेकिन जल्द ही इसे publish किया जाएगा । बीच-बीच में वेबसाइट चेक करते रहें।
मुफ़्त
सारांश का पीडीएफ़
यह अभी उपलब्ध नहीं है लेकिन जल्द ही इसे publish किया जाएगा । बीच-बीच में वेबसाइट चेक करते रहें।
मुफ़्त

हिन्दी 100 मार्क्स सारांश

You may like this

Roj subjective Q & A

गद्य-5 | रोज (प्रश्न-उत्तर) – सच्चिदानंद हिरानंद वात्स्यायन अज्ञेय | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

रोज का प्रश्न-उत्तर पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। Q 1. मालती के घर का वातावरण आपको कैसा लगा ? अपने शब्दों में लिखिए। उत्तर- मालती के …
Continue Reading…
Shiksha Subjective Q and A

गद्य-13 | शिक्षा (प्रश्न-उत्तर) – जे० कृष्णमूर्ति | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

शिक्षा का प्रश्न-उत्तर पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। Q 1. शिक्षा का क्या अर्थ है एवं इसके क्या कार्य हैं ? स्पष्ट करें । उत्तर- शिक्षा …
Continue Reading…
Tirichh subjective Q and A

गद्य-12 | तिरिछ (प्रश्न-उत्तर) – उदय प्रकाश | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

तिरिछ का प्रश्न-उत्तर पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। Q 1. लेखक के पिता के चरित्र का वर्णन अपने शब्दों में करें। उत्तर- लेखक के पिताजी 55 …
Continue Reading…
Usha Kavita Objective Question

पद्य-8 | उषा Objective Q & A – शमशेर बहादुर सिंह | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

उषा (शमशेर बहादुर सिंह) का Objective Q & A पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। 1. दूसरा सप्तक का प्रकाशन वर्ष है — (A) 1950 (B) 1951 (C) 1952 (D) …
Continue Reading…
Roj Saransh

गद्य-5 | रोज सारांश – सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन (अज्ञेय) | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

“रोज” कहानी “सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय” द्वारा लिखी गई है। इस कहानी में लेखक 4 साल बाद मालती से मिलने गए है। मालती उनकी दूर …
Continue Reading…
Hanste Hue Mera Aakelapan Subjective Q & A

गद्य-11 | हँसते हुए मेरा अकेलापन (प्रश्न-उत्तर) – मलयज | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

हँसते हुए मेरा अकेलापन का प्रश्न-उत्तर पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। Q 1. डायरी क्या है ? उत्तर- डायरी किसी साहित्यकार या व्यक्ति द्वारा लिखित एक …
Continue Reading…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!