Juthan subjective Q and A

गद्य-10 | जूठन (प्रश्न-उत्तर) – ओमप्रकाश वाल्मीकि | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

विवरण 

Juthan subjective Q and A

आधारित पैटर्नबिहार बोर्ड, पटना
कक्षा12 वीं
संकायकला (I.A.), वाणिज्य (I.Com) & विज्ञान (I.Sc)
विषयहिन्दी (100 Marks)
किताबदिगंत भाग-2
प्रकारप्रश्न-उत्तर
अध्यायगद्य-10 | जूठन – ओमप्रकाश वाल्मीकि
कीमतनि: शुल्क
लिखने का माध्यमहिन्दी
उपलब्धNRB HINDI ऐप पर उपलब्ध
श्रेय (साभार)रीतिका
गद्य-10 | जूठन (प्रश्न-उत्तर) – ओमप्रकाश वाल्मीकि | कक्षा-12 वीं
विद्यालय में लेखक के साथ कैसी घटनाएँ घटती हैं ?

उत्तर

विद्यालय मे लेखक के साथ बहुत अप्रिय घटनाएँ, घटती है। नीचली जाती के होने के कारण उन्हें वर्ग मे बैठने नही दिया जाता है। हेडमास्टर द्वारा उन्हों वर्ग से बारह निकाला जाता है। और पूरे विद्यालय मे झाडू लगवाया जाता है। तीसरे दिन जब लेखक चुपचाप वर्ग में बैठ जाते है। तब हेडमास्टर उनकी गर्दन दबोचकर वर्ग से बाहर बरामदे मे निकालते है और उन्हें पूरे मैदान में झाड़ू लगने

को कहते है। Juthan subjective Q and A


पिताजी ने स्कूल में क्या देखा ? उन्होंने आगे क्या किया ? पूरा विवरण अपने शब्दों में लिखें ।

उत्तर

पिताजी अचानक स्कूल के पास से गुजरते है और स्कूल में लेखक को झाडू लगते हुए देखते है। पिताजी ने लेखक से सारी बात की जानकारी ली और उनके हाथ से झाडू छीन कर फेंक दी और गुस्से से चीखने लगे, “कौन सा मास्टर है वो, जो मेरे लड़के से झाडू लगवावे है…….?” जिसे सुनकर हेडमास्टर और सभी मास्ट बाहर आए । हेडमास्टर ने पिताजी को गाली देकर धमकाया लेकिन पिताजी पर धमकी का कोई असर नही हुआ।


बचपन में लेखक के साथ जो कुछ हुआ, आप कल्पना करें कि आपके साथ भी हुआ हो- ऐसी स्थिति में आप अपने अनुभव और प्रतिक्रिया को अपनी भाषा में लिखिए ।

उत्तर

बचपन में लेखक के साथ जो कुछ हुआ, वो नहीं हो ना चाहिए था। अगर वही घटना हमारे साथ होता तो हमे भी बहुत बुरा तथा अपनमांजक लगता। ऐसा व्यवहार करने वाले व्यक्ति पर बहुत क्रोध आएगा। उनके द्वारा किये गए इस व्यवहार का कारण भी जानेंगे। हम उनकी शिकायत भी करते तथा साथ ही साथ प्रयास करते की ऐसा घटना दूसरे के साथ न हो। Juthan subjective Q and A


किन बातों को सोचकर लेखक के भीतर काँटे जैसे उगने लगते हैं ?

उत्तर

लेखक अपने बच्चपन की बातो को सोचते है। जब वे छोटे थे तब उनके परिवार के सभी लोग दूसरो के घर काम किया करते थे। जिसके बदले मे उन्हे थोडा अनाज, जुठन और खुची रोटी दी जाती थी। शादी-ब्याह के मौको पर भी उन्हे लोगो की जूठी प्लेटे ही मिलती थी। वे पुरियो के टुकड़ों को सुखा लेते थे और बरसात के दिनो मे नमक और मिर्च छिड़ककर खाते थे। इन्ही सभी बातो को सोचकर लेखक के भीतर काँटे जैसे उगने लगता है।


‘दिन रात मर खप कर भी हमारे पसीने की कीमत मात्र जूठन, फिर भी किसी को शिकायत नहीं । कोई शर्मिंदगी नहीं, कोई पश्चाताप नहीं ।” ऐसा क्यों ? सोचिए और उत्तर दीजिए ।

उत्तर

“दिन रात मर खप कर भी हमारे पसीने की कीमत मात्र जूठन, फिर भी किसी को शिकायत नहीं। कोई शर्मिंदगी नही, कोई पश्चाताप नहीं” ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय चुहड़े जाति के लोगों का काम त्यागियों के घर काम करने तथा मेरे हुए मवेशियों को उठाना आदि था। मवेशियो के चमडे बेचकर कुछ पैसे उन्हें मिल जाता था। समय पिछड़ी जातियों की स्थिती बहुत दैनिय थी। उस समय चूहडो को खाने के लिए जूठन ही मिलती थी। वे इन सभी चीजों को अपना चुके थे। वे इन सभी को वो अपनी किस्मत मान लिए थे।

Juthan subjective Q and A


सुरेंद्र की बातों को सुनकर लेखक विचलित क्यों हो जाते हैं ?

उत्तर

सुरेंद्र की बातो को सुनकर लेखक को अपने बचपन की बाते याद आती है। ये बाते तब की है जब सुरेंद्र पैदा भी नही हुआ था। उसकी बड़ी बुआ की शादी थी। शादी से दस-बारह दिन पहले से लेखक की माँ-पिताजी ने सुखदेव सिंह त्यागी के घर-आँगन से लेकर बाहर तक के सभी काम किए थे। लेखक के माँ द्वारा भोजन माँगने पर उन्हें बेइज़्जत किया गया। सुखदेव सिंह ने जूठन के तरफ इशारा करते हुए कहते है “अपनी औकात मे रह चूहड़ी। उठा टोकरा, दरवाजे से और चलती बन” इन्ही सभी बातों को याद करके लेखक विचलीत हो जाते है।


घर पहुँचने पर लेखक को देख उनकी माँ क्यों रो पड़ती हैं ?

उत्तर

ब्रह्मदेव तगा का बैल रास्ते मे मर गया था। उसे उठाने का काम लेखक के परिवार को मिला था। उस समय लेखक के घर पर कोई पुरुष नही था। जानवरो के चमड़े बेच कर कुछ पैसे मिलते थे। उसे लेखक की माँ गवाना नहीं चाहती थी। इसलिए उन्होने लेखक को ना चाहते हुए भी स्कूल से बुलआकर सोल्ड़ चाचा के साथ उनकी सहायता के लिए भेज देती है लेकिन जब लेखक घर वापस आते हैं तो उनकी हालत को देखकर उनकी माँ रो पड़ी। Juthan subjective Q and A


व्याख्या करें
‘कितने क्रूर समाज में रहे हैं हम, जहाँ श्रम का कोई मोल ही नहीं बल्कि निर्धनता को बरकरार रखने का षड्यंत्र ही था यह सब ।’

उत्तर

प्रस्तुत पंक्तियाँ दलित आंदोलन के सुप्रसिद्ध लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि रचित आत्मकथा ‘जूठन’ से उद्धृत अंश है।

लेखक ने यहाँ समाज की विद्रूपताओं पर कटाक्ष किया है। लेखक के पूरे परिवार द्वारा मेहनत और परिश्रम से कार्य किये जाने के बावजूद भी उन्हे दो वक्त की रोटी नसीब नहीं होती थी। रोटी की बात कौन कहे जूठन नसीब होना भी मुश्किल था। विद्यालय का हेडमास्टर चूहड़े के बेटे को विद्यालय में पढ़ाना नहीं चाहता है, उसका खानदानी काम ही उसके लिए है। चूहड़े का बेटा है लेखक, इसलिए पत्तलों का जूठन ही उसका निवाला है।

एक संस्मरण लेखक यहाँ प्रस्तुत करता है। मरे हुए पशुओं को उठाना भी बड़ा हो कठिन कार्य रहता है। उसके अगले-पिछले पैरों को रस्सी से बाँधकर बाँस की मोटी-मोटी बाहियों से उठाना पड़ता था। लेखक इतने परिश्रम काम के बदले में मात्र दस-पंद्रह रुपये हाथ में आने की बात कहता है। इस प्रकार के कठिन श्रम से इतनी आमदनी होना समाज की क्रूरता नहीं तो और क्या है ? लेखक के अनुसार यहाँ श्रम का कोई मोल नहीं। श्रम का पारिश्रमिक नहीं के बराबर है। लेखक इसे निर्धनता के प्रति एक षड्यंत्र मानते है।


लेखक की भाभी क्या कहती हैं ? उनके कथन का महत्त्व बताइए ।

उत्तर

ब्रह्मदेव तगा का बैल रास्ते मे मर गया था। उसे उठाने का काम लेखक के परिवार को मिला था। उस समय लेखक के घर पर कोई पुरुष नही था। जानवरो के चमड़े बेच कर कुछ पैसे मिलते थे। उसे लेखक की माँ गवाना नहीं चाहती थी। इसलिए उन्होने लेखक को ना चाहते हुए भी स्कूल से बुलआकर सोल्ड़ चाचा के साथ उनकी सहायता के लिए भेज देती है लेकिन जब लेखक घर वापस आते हैं तो उनकी हालत को देखकर उनकी माँ रो पड़ी और लेखक की भाभी कहती है की “इनसे ये ना कराओं …….. भूखे रह लेंगे …….. इन्हे इस गंदगी मे ना घसीटो!”

लेखक के भविष्य मे होने वाले परिवर्तन का कारण भाभी का कथन ही है। यह कथन अंधेरे मे रौशनी बनकर चमकते है।  Juthan subjective Q and A


Quick Link

Chapter Pdf
यह अभी उपलब्ध नहीं है लेकिन जल्द ही इसे publish किया जाएगा । बीच-बीच में वेबसाइट चेक करते रहें।
मुफ़्त
Online Test 
यह अभी उपलब्ध नहीं है लेकिन जल्द ही इसे publish किया जाएगा । बीच-बीच में वेबसाइट चेक करते रहें।
मुफ़्त
प्रश्न-उत्तर का पीडीएफ़
यह अभी उपलब्ध नहीं है लेकिन जल्द ही इसे publish किया जाएगा । बीच-बीच में वेबसाइट चेक करते रहें।
मुफ़्त

हिन्दी 100 मार्क्स सारांश

You may like this

Roj Objective Q & A

गद्य-5 | रोज Objective Q & A – सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन (अज्ञेय) | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन (अज्ञेय) द्वारा रचित रोज पाठ का Objective Q & A पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। 1. रोज किसकी रचना है? (A) रामधारी सिंह …
Continue Reading…
Juthan saransh

गद्य-10 | जूठन (सारांश) – ओमप्रकाश वाल्मीकि | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

ओमप्रकाश वाल्मीकि की “आत्मकथा” “जूठन” पिछड़ी-दलित एवं निम्न जाति के लोगों के दैनीय स्थिति को दर्शाती है। ओमप्रकाश वाल्मीकि चूहड़े जाति से थे। नीची जाति …
Continue Reading…
Putra Viyog Subjective Question

पद्य-7 | पुत्र वियोग (प्रश्न-उत्तर) – सुभद्रा कुमारी चौहान | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

पुत्र वियोग का प्रश्न-उत्तर पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। Q1. कवियित्री का खिलौना क्या है? उत्तर- कवियित्री का खिलौना उनका पुत्र है। जिसकी मृत्यु हो चुकी …
Continue Reading…
Tumul Kolahal Kalah Mein Objective

पद्य-6 | तुमुल कोलाहल कलह में Objective Q & A – जयशंकर प्रसाद | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

तुमुल कोलाहल कलह में (जयशंकर प्रसाद) का Objective Q & A पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। 1. तुमुल कोलाहल कलह में किसकी रचना है? (A) दिनकर (B) …
Continue Reading…
Kavitt Subjective Question

पद्य-5 | कवित्त (प्रश्न-उत्तर) – भूषण | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

कवित्त का प्रश्न-उत्तर पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें। Q1. शिवा जी की तुलना भूषण ने किन किन से की है ? उत्तर- शिवा जी की तुलना भूषण जी ने इंद्र, बाड़व (समुन्द्र की आग), भगवान राम, वायु, शिवाजी, परशुराम, दावा (जंगल की आग), चीता, शेर और कृष्ण से की है।
Continue Reading…
Pad bhavarth (saransh)

पद्य-2 | पद भावार्थ (सारांश) – सूरदास | कक्षा-12 वीं | हिन्दी 100 मार्क्स

यह पद सूरदास के विश्वप्रसिद्ध कृति सुरसागर से संकलित हैं। कवि इस पहले पद खण्ड में माता यशोदा द्वारा सोये हुए बाल श्री कृष्ण को …
Continue Reading…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!